विधवा होने के 70 साल बाद सैनिक की पत्नी को मिलनी शुरू हुई पेंशन

पेंशन की हकदार घोषित किए जाने के बाद परुली देवी ने कहा कि यह पैसों को लेकर नहीं बल्कि मेरे नुकसान का प्रमाण है। उनके पति गगन ने साल 1946 में कुमाऊं रेजीमेंट ज्वॉइन की थी। जब गगन सिंह की मौत हुई, जब वो बहुत छोटी थीं। 

from India TV Hindi: india Feed https://ift.tt/3uquHkD
via IFTTT
टिप्पणी पोस्ट करें (0)
नया पेज पुराने